बेटी है तो कल है

0
524
views

एक स्त्री एक दिन एक स्त्रीरोग विशेषज्ञ के पास के गई, और बोली, ‘ डाक्टर मैँ एक गंभीर समस्या मेँ हुँ और मै आपकी मदद चाहती हुँ ??

मैं गर्भवती हूँ….आप

किसी को बताइयेगा नही… मैने एक जान पहचान के सोनोग्राफी लैब से यह जान लिया है…. कि मेरे गर्भ में एक बच्ची है….

मै पहले से एक बेटी की माँ हूँ और मैं किसी भी दशा मे दो बेटियाँ नहीं चाहती.??

‘डाक्टर ने कहा ‘ठीक है’ तो मै आपकी क्या सहायता कर सकती हुँ ..??

‘वो स्त्री बोली’मैँ यह चाहती हू कि इस गर्भ को गिराने मेँ मेरी मदद करें …??

‘डाक्टर अनुभवी और समझदार थी..

थोडा सोचा और फिर बोली ‘मुझे लगता है कि मेरे पास एक और सरल रास्ता है जो आपकी मुश्किल को हल कर देगा’…

वो स्त्री बहुत खुश हुई..

डाक्टर आगे बोली ‘हम एक काम करते है आप दो बेटियां नही चाहती ना …??

तो पहली बेटी को मार देते है जिससे आप इस अजन्मी बच्ची को जन्म दे सके और आपकी समस्या का हल भी हो जाएगा वैसे भी हमको एक बच्ची को मारना है…

तो पहले वाली को ही मार देते है ना….??

तो वो स्त्री तुरंत बोली..’ना ना डाक्टर’ हत्या करना गुनाह है, घोर पाप है और वैसे भी मैं अपनी बेटी को बहुत चाहती हूँ उसको खरोंच भी आती है तो दर्द का अहसास मुझे होता है ….

डाक्टर तुरंत बोली…’पहले कि हत्या करो या अभी की जो जन्मा नही.उसकी हत्या करो.दोनो ही पाप हैं…

यह बात उस स्त्री को समझ आ गई वह स्वयं की सोच पर लज्जित हुई और पश्चाताप करते हुए घर
चली गई…..

मित्रों भाग्यशाली होते हैं वो लोग ‘जिनके घर लडके जन्म लेते हैं’ …
और ‘सौभाग्य शाली’ होते हैं वो लोग जिनके घर लडकियों का जन्म होता है !

क्या आपको समझ मेँ आयी..?? अगर आई हो तो दुसरे लोगो को भी समझाने मे मदद कीजिये हो सकता है आपका एक लाईक या आगे बढ़ाना किसी की सोच बदल दे !

Like this content? Or have something to share? Write to us: laughfy.com@gmail.com, or connect with us on Facebook and Twitter (@laughfydotcom)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here